कागद राजस्थानी

रविवार, 2 जून 2013

दांत-जीभ री कुचरणीं

जीभ दांतां सूं बोली
म्हैं थां बत्तीस भायां री
ऐकली बैन हूं
थे म्हारो 
ध्यान कोनीं राखो
चीज खांवती बगत
म्हनै थे किचर न्हाखो
कीं तो ध्यान राख्या करो !

दांत बोल्या
म्हे तो थांरो
भोत ध्यान राखां
आगा ऊभ'र
थांरी रिछपाळ करां
करड़ी चीजां चाब'र
थंन्नै भोळावां
सीरो आवै तो थूं
सीधो गटकावै
ध्यान तो बाई म्हारी
थूं म्हारो राख्या कर
बैड़ी नां बोल्या कर
बोल-बाल'र
थूं तो परनै हुए
लोग म्हांनै तोड़ण आवै !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.