कागद राजस्थानी

रविवार, 2 जून 2013

रोटी में राम बसै

छोटी होवै
भलां ई
मोटी होवै
दो जूण घर री
रोटी होवै !
.
पोवणियैं री
भलां ई
कोई जात होवै
पण रोटी में
रोटी आळी
बात होवै !
.
घर रो चूल्हो
कदै ई ना भूलो
चेतन चूल्हो
स्यान बणावै
अचेत चूल्हो
स्यान गमावै !
.
खाली पेट
कुण धणीं
भर्‌यै पेट
लाख धणी !
.
रोटी में
राम बसै
रोटी सारु
राम खस्सै
रोटी में ई
सगती है
रोटी खायां
मुगती है ।
.
आदर बिन
रोटी खाओ
बिरथा थारी
जूण गमाओ
इण रोटी सूं
धूड़ फाकणीं
आच्छी है
बात कथी कोई
साच्ची है ।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.