कागद राजस्थानी

गुरुवार, 20 जून 2013

*खुद खुदा अर दूजा खोजा*

दूजा खावै तो
घणों लागै
खुद खावै तो
कम लागै !

दूज रो सांच
कूड़ लागै
खुद रो झूठ
सांच लागै !

दूजां रो मान
धूड़ लागै
खुद रो मान
सिरै लागै !

दूजां रो धन
काळो लागै
खुद रो धन
धोळो लागै !

दूजां री बात
फांफ लागै
खुद री बात
दमदार लागै !

दूजां रा सद्‌कर्म
पाप लागै
खुद रा कुकर्म
धर्म लागै !

दूजां री कमाई
दो नम्बर लागै
खुद री कमाई
एक नम्बर लागै !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.