कागद राजस्थानी

रविवार, 2 जून 2013

दूहा,

खूंजै कोनीं रोकड़ा, गोडां कोनीं तंत ।
गोरी गोखै गोखड़ै, टसकै बूढा कंत ।।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.