कागद राजस्थानी

रविवार, 2 जून 2013

कुचरणीं

आंख्या आगै
तिरवाळा आवै
सांस बाजै
चरड़ चूं
कड़तू दूखै
मुंडी करै डिस्को
दूखता गोडा
बोलता लखावै
अब भाया 
दुनियां सूं खिसको !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.