कागद राजस्थानी

गुरुवार, 20 जून 2013

सरदी

सरदी  घूम्मै ढूंढती , बूढा  बूढा हाड ।
कई नै चिता चाढसी, कीं नै कबरां गाड ।

ठंड पड़ै है जोरगी , गाभा  पैरो साब ।
फैसन फंडा छोडगै, ताती पीवो राब ।।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.