कागद राजस्थानी

शुक्रवार, 21 जून 2013

पंचलड़ी

मसळ आंखां जाग बता ।
कुण लगाई आग बता ।।
पड़ी चादर मैल जमी । 
कुण लगाया दाग बता ।।
कुण देसी रोटी अठै । 
कुण घालसी साग बता।। 
खावै बै बैठ्या माल ।
अठै फूट्या भाग बता ।।
इण नगरी दोरी जूण ।
जैरी कित्ता नाग बता।।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.