कागद राजस्थानी

रविवार, 2 जून 2013

*उकळतो गीतड़ो*

पांती री हांती जीमगै , दूजां रा हक खोसो क्यूं । 
कर मजूरी चूल्हो बाळै, घर बैठ्यां नै रोसो क्यूं ।।

थांनै सगळो हक सूंपगै , रोवै ना कुरळावै रे ।
आंख्यां मींच करै भरोसो,थांनै नित बिड़दावै रे ।
तोड़ो फेर भरोसो क्यूं ।।

जीत परा थे जाओ दिल्ली,पांच बरस थे आओ नीं।
ऐ तो चाबै सुक्का टुकड़ा , थे भावै ज्यूं खाओ नीं ।
रोज दिखाओ ठोसो क्यूं।।

सुणै नित रा भासण थांरा, ताळी पीट रिझावै है ।
खा रोटी घर री बापड़ा , गीत आपरा गावै है ।
जूण नै फेर मोसो क्यूं ।।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.