कागद राजस्थानी

रविवार, 2 जून 2013

तुड़क-तुड़क तुड़ुंग तूं

सियाळै री रातां
ओढूं सिरख
बिछाऊं पथरणों
गुद्दी हेठै सोरफ सारु
धरूं तकियो
ढाबूं पौ री ठारी !

आधी सी रात
कानां में पड़ै
पींजणैं री आवाज
"तुड़क-तुड़क तुड़ुंग तूं
तुड़क-तुड़क तुड़ुंग तूं"
अचाणचक खुलै आंख
साम्हीं पण कीं नीं
म्हैं सिरख-पथरणैं
तकियै री रूई सम्भाळूं
हाल ठीक ठाक है
आंख मीचूं
पाछी नींद उतरै
नींद में आवै
हेला उपाड़तो
कमरद्दीन पिंजारो
रूई पिंजाल्यो !
रूई पिंजाल्यो !!

म्हैं उठ'र बैठूं
यादां में फिरै पिंजारो
गळ्यां सूं कद होग्यो
साव अदीठ
सोचूं
कांईं होयो होसी
कमरद्दीन अर उण री टाबरी रो
कळां पछै
म्हारै तो सोरफ है
कंवळा भरै कळां
सिरख-पथरणां-तकिया
बठै किंयां भरीजतो होसी पेट !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.