कागद राजस्थानी

रविवार, 2 जून 2013

आळस्यां री दो बात


1.


काम री मेदा कोनीं
टकै री पैदा कोनीं
भूख मरां अर मौज करां !


2.

गाडो जोड़ा नीं
घोचो तोडां नीं
फळी फोड़ां नीं
पांती तो पांती है
बा म्हे मोड़ां नीं !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.