कागद राजस्थानी

गुरुवार, 10 अप्रैल 2014

म्हारो गांव : 5 चितराम

गांव-1

आस रो डूंगर है
म्हारो गांव
इण रा भाखर
टूटै नीं किणीं सूं
ईसर-परमेसर
परकत खसै तोड़ण
जुगां सूं
म्हारै गांव में ।

अठै
अटल ऊभी है
रेत रै कण-कण
जीया-जंत में
उतरती-पळती
पीढी दर पीढी
भरोसो बधांवती
अमर है आस
म्हारै गांव में !
-
गांव-2

पाणीं रो टोटो
पण
प्रीत रा पीवै
भर-भर प्याला
म्हारो गांव !

अठै मिटै
जुगां री तिरस
जणांई भंवै मिरग
थळ री देह
सोधता अदीठ जळ
जिण नै पीयां
मिलै मुगती
भव बंधन सूं
म्हारै गांव में !
-
गांव-3

पाणीं पीयां नीं
पाणी देख-देख
होवै हर्‌या
जीव-जिनावर
माणस-रूंखड़ा
पान-फूस-घास
म्हारै गांव में !

बिरख री आस
अटल पाळती
खेवै जड़ां पताळ
जूनी खेजड़ी
बोदी सीवण
ऊंडो जळ पीवण
म्हारै गांव में !



गांव-4

बादळ बरसो
चावै मत ना बरसो
अटल पण चौवै
मुरधर री रगां
बण धंवर
जीव-जंत री आंख्यां
बण आंसूड़ा
म्हारै गांव में ।

बिरखा सूं बेसी
पाळै है आस
अदीठ बादळ री
गावै तेजा-मोरिया
धोकै आस माता
अबकै बरसी
म्हारै गांव में ।
-
गांव-5

पाणीं री जाणैं
आण अर कांण
थळ रै जळ समेत
मिनख रै माजणैं तकात
परखै पाणीं
म्हारै गांव में ।

अळगो आंतरो
चावै पाणीं पीवण रो
राखै पण सांकड़ै
आण रो पाणीं
जिण सारु कटाया
बडेरां सीस अलेखूं
तिरस पीवी
राख्यो पण पाणीं
पाणीं राखण आंख रो
रगत सूं सींची धरा
आज भी पाळै बा हूंस
म्हारो गांव !
=

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.