कागद राजस्थानी

गुरुवार, 10 अप्रैल 2014

जड़ : 7 चितराम

1.
जड़
ऊंडी बड़
आडी पड़ साम्भै
घेर-घुमेरदार रूंख नै !

जड़ रै ताण ई
रूंख करै बांथीड़ा
वायरै सूं अटल
ऊंचो उठ करै
हतायां आभै सूं !

रूंख नै साम्भै जड़
जड़ नै कुण साम्भै
पूछो हेत सूं
कदैई रेत सूं !
2.
रूंख हर्‌यो
रूंख बळ्यो
पान पीळा
पान हर्‌या
डाळ्यां लुळै
पुहुप खिलै
देखो पड़तख
देखो पण कद
धूड़ में धसी
रूंख नै साम्भती
खुद नै होमती
रूंख नीचै पड़ी
अटल मून जड़ !

3.
रूंख जीव है
जींवतो जीव
जावै नीं कठैई
सांस पण लेवै
मिनख रै दाईं
विग्यान बतावै !

रूंख जीव है तो
रूंख री धड़ है
ऊंडी पड़ी जड़
पान छाई पेडी
मुंडो है फगत
हठीलै रूंख रो
मुंडो देख्यां
पार नीं पड़ैला
धड़ नै भी अटल
साम्भणी पड़ैला !
4.
धूड़ में
धूण घाल्यां
ऊंदै माथै पड़ी
रूंख नै
हर्‌यो राखण
ढूंढै जळ
आभै सूं पताळ
साव मा है
जड़ रूंख री
मा रै ई होवै
इत्ता जाळ-जंजाळ !
5.


रूंख री तो है
है पण कठै
जड़ मिनख री
कुण जाणैं !

रूंख तो ऊभो है
आपरी जड़ां माथै
राखै आण
साम्भै पिछाण
गमै क्यूं
मिनख री पिछाण
उथळो जड़ां में है
लाध ई जावै
सोधण जे उतरै
ऊंडो खुद में कोई !

==
आओ आपां
ऊंडा उतरां
सोधां आपणीं
जुगां जूनी जड़
सोध्यां तो
पकायत ई लाधसी
क्यूं कै आपां
जड़ बायरा तो
हा ई नीं कदैई ।

बडेरा बतावै
रूंख भी
जूण है एक
चौरासी रै गेड़ री
स्यात नीं
पकायत ई
रूंख बडेरा है आपणां
रूंख री है तो
आपणीं भी है
पकायत ई जड़
सोध्यां लाधसी ।
7.
जड़ होवण सूं
बंचण सारू
भोत जरूरी है
आपरी
जड़ां सोधणों-साम्भणों
जड़ां माथै
इकलग ऊभणों ।

अमर बजे
रूंख चढी अमरबेल
कद है पण अमर
पड़तख जाण
जड़हीण री मौत
तय है साव
जड़ सोध
जड़ ई दिरायसी
सागी ओळख
मिनख होवण री ।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.