कागद राजस्थानी

गुरुवार, 10 अप्रैल 2014

आंख बदळ दे

चाल बदळ दे ढाल बदळसी ।
आंख बदळ दे हाल बदळसी ।।

मून रैवणों है कमजोरी 
करो जीभ नै अब दोरी
टोरो बातां सैंजोरी
थांरी थाळी माल बदळसी ।।

बीजै थूं पण बरतावै बै
हक है थांरो पण खावै बै
थूं भूखो मौज मनावै बै
बदळैला जद झाल बदळसी ।।

हाथां खुद बोट घालजै थूं
हल्लो चौकस रै बोलजै थूं
रगत पीवणियां टाळजै थूं
पछै न गादड़ खाल बदळसी ।।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.