कागद राजस्थानी

गुरुवार, 24 अप्रैल 2014

*क्यूं कर्‌यो तांडव*

म्हैँ मांग्यो
तिरस भर पाणीं
थूं मुंदा दियो आभो
म्हैं डूब्यो 
थांरै नेह रै मेह में
थूं भी तो रीत्यो है
अब आव नीचै
देख धरा माथै
कांईं-कांईं बीत्यो है ?
*
म्हैं पूज्या भाखर
घड़-घड़ थांरा उणियारा
चढ-चढ डूंगरां
लगाई फेर्‌यां
धोकी थांरी देवळ्यां
फेर भी थूं
क्यूं बळ्यो रीसां
क्यूं कर्‌यो तांडव
क्यूं लिया इत्ता भख
नसै मेँ हो कांईं
देवां रा देव महादेव
थूं भोळो तो कोनीं
जरूर रोळो है कोई !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.