कागद राजस्थानी

शुक्रवार, 25 अप्रैल 2014

शिक्षक दिवस

एक जणों शिक्षक दिवस आळै दिन न्हा-धो'र आपरै काकै रै पगां लागतो । किणीं पूछ्यो, " बावळा , थूं इयां कियां करै ? आज रै दिन तो गुरुंआं रै पगां लागणों चाईजै , काकै रै पगां क्यूं लागै ?"
बो बोल्यो म्हानै तो गुरु जी सिखायो हो कै "गुरु गोविन्द दोऊं खड़े , काके लागूं पांय । अर अरथ भी ओ ई बतायो हो कै काकै रै पगां लागणों चाईजै !" 

*
 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.