कागद राजस्थानी

गुरुवार, 24 अप्रैल 2014

*डांखळो*

ऊंदरां में डागधर हो पूंछलो परभाती ।
करतो जणां इलाज आंख्यां राखतो राती ।।
        ऊंदरी रै होग्यो जुखाम
         बोल्यो कर एक काम
रंडकी तूं खाया कर करगै गुलफी ताती ।।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.