कागद राजस्थानी

शुक्रवार, 11 अप्रैल 2014

कुचरणीं

घर रो धणीं
घरआळी सूं बोल्यो
अजकाळै भागवान
थूं मो'चोर होयगी
म्हनै बतळावै ई नीं
काईं रोळो है ?
घरआळी बोली
घर में काम भोत है
आप सूं मिलण री
फुरसत ई नीं मिलै ।
घरआळो बोल्यो
तो म्हैं मर जाऊं काईं ?
घरआळी हाथाजोड़ी करी
थूं कठै ई सांच्याणीं
मर ना जाई मरज्याणां
म्हनै तो रोवण नै ई
फुरसत नीं मिलैला
ऊपर सूं
मूंघै मौल री चूड़्यां रो
बिरथा नुकसाण होवैला !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.