कागद राजस्थानी

बुधवार, 23 अप्रैल 2014

आओ आपां स्याणां बणां

आपणीं निजरां साम्हीं
लोगां बणाया मारग
उण मारगां आपां 
चाल्या जित्तै चाल्या
नीं चाल्या जद
भगाया बां लारै पड़
पैली तो बै 
मुळक्या बांकी राफ
पछै बजाई ताळी
बोल्या-जाओ रे डोफ्फां
जाबक ई बावळा हो थे
ना ददियो है थां में
ना है तंत
थांरो तो भाइडां
नेड़ै है अंत !

उण रै बाद सूं
बै घिस रैया है राछ
आओ !
उण अंत नै
आपां टाळां
जिकी बणाय राखी है
बंचण री आस में
ऊंची बाड़
उण बाड़ नै
आज ई बाळां
आपां भाजां अब
उणां रै लारै
आओ दिखांण
आपां कीं स्याणां बणां !

आओ आपां
गरीबी री रेखा रै
नीचै सूं निकळ
निरवाळी रेखा खींचां
आं स्याणां नै राखां
उण रेखा नीचै !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.