कागद राजस्थानी

शुक्रवार, 25 अप्रैल 2014

*अजादी*

गोरा भाज्या छोडगै ,होयो देस अजाद । 
हाल गुलामी सांकड़ै,चौसठ बरसां बाद ।।
भारत माता आपणीं , खड़ी उडीकै आज ।
भिस्टाचारड़ो मेटसी , पूत बचासी लाज ।।
नीत सुधारो आपरी , पाछै भूंडो लोग ।
खुदरै सुधरयां मिटैलो, भिस्टाचार रो रोग ।।
अजादी री सोगन खा , तजो खुद भिस्टाचार ।
खुद मरस्यो जे भायला, हो सी जय जयकार ।।
आज अजादी आपणीँ, सांसां सूं अणमोल ।
पूत धरम अपणाय लै,भारत माता बोल ।।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.