कागद राजस्थानी

गुरुवार, 24 अप्रैल 2014

*पांच कुचरणीं*

1.प्यार
बा बोली
थे म्हनै प्यार करो
म्हैं बोल्यो
जाओ पै'ली
थोबड़ो तो त्यार करो !

2. इस्क

बा बोली
म्हनै है
थां सूं इस्क
म्हैं बोल्यो
खुली आंख
कोनीं उठावां रिस्क !

3.लव लैटर

बा बोली
थे म्हनै
लिखो लव लैटर
म्हैं बोल्यो
कागद क्यां सूं
करां काळा
जद फोन माथै'ई
निवड़ग्यो सगळो मैटर !

4.प्रीत

बा बोली
म्हनै थां सूं
कित्ती प्रीत है
थे जाणों कोनीं
म्हैं बोल्यो
म्हैं जाणूं
पण म्हैं
थां जित्तो
स्याणों कोनीं
तन्नै तो म्हारो
सो कीं मिलसी
पण म्हारै हाथ
कीं आणो कोनीं !
5.फूटरी

बा बोली
देखो जी
म्हैं कित्ती फूटरी हूं
म्हैं बोल्यो
म्हैं कदर करुं
इण झूट री !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.