कागद राजस्थानी

गुरुवार, 24 अप्रैल 2014

डांखळो


छोतियो बोल्यो डर कोनीं लागै आं भूत स्यूं ।
आधी रात नै जाय'र मुसाणां मेँ मूत स्यूं ।
              भूतिया भेळा होया
             जमराज आगै रोया
मुसाणां नै बचाओ महाराज ऐड़ै ऊत सूं ।।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.