कागद राजस्थानी

शुक्रवार, 25 अप्रैल 2014

थम रे रिपिया !

रोळो मच रैयो है
रिपियो गिरग्यो
गिर्‌यो पण कठै है
ओ बताओ तो सरी
ढूंढ'र तो ल्यावां 
जे स्विस बैंक में
न्हाख आया
का फेर
अमेरिका में जाय
छोड आया तो तो
लाधणों दोरो है !
*
अरथसास्तरी बोलै
रिपियो सस्तो होग्यो
जे आ सांची है तो
रिपियो कमावणों
इत्तो दोरो क्यूं है
क्यूं नीं आवै हाथ
कोई गरीब रै ?
*
देस में जद
नेता-जनता
सरकार अर साहूकार
कोई भी गिर सकै
तो रिपियो लाई
लारै कियां रैवै !
*
थम रे रिपिया
ईंयां नेतावां दाईं
मत ना गुड़क
थांरो तो
माजणों है यार !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.