कागद राजस्थानी

शुक्रवार, 25 अप्रैल 2014

लुगाई : दो चितराम



1-गांव में लुगाई

डांगरां रै निवड़ग्यो
नीरो-चारो-तूड़ी
रैयो नीं कोई चारो
बा चूड़्यां कानीं देख
ऐकली बड़बड़ाई
अब कठै है चलस
सोनै री चूड़ी री
आं नै बेच करां
इंतजाम तूड़ी रो
बापड़ा ऐ जीवड़ा
भूख तो नीं मरै
चूड़ी पैर्‌यां
काईं पेट भरै !

सोच विचार'र
बण झट सळटाई चूड़ी
चूड़ी रा रिपियां सूं
घर में न्हखाली तूड़ी !
*
2-सैर में लुगाई
....
भायली रै हाथ में
फोन देख ब्लैकबेरी रो
बा बळगी
ईसकै री आग में
सोनै री चूड़्यां कानीं देख
ऐकली बड़बड़ाई
अब कठै है चलस
सोनै री चूड़ी रो
बिना चूड़ी
किसो सुहाग गमै है
ब्लैकबेरी बिन्यां तो
सांपड़तै ई इज्जत गमै है !

सोच-विचार'र
बण चूड़ी बेची
करियां बिन्यां देरी
मोलाय ल्याई ब्लैकबेरी !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.