कागद राजस्थानी

गुरुवार, 24 अप्रैल 2014

*बीन अर डस्टबीन*

मैडम जी बोल्या
आपणै भोत सुभीतो है
घर में आपणै
बीन अर डस्टबीन दोन्यूं है
घर रा ओळमा
राड़-रप्पो
गाळ-दकाळ
काण-कसर
खरचो-पाणीं
रीस अर रासो
सगळा बीन रै टिकावां
घर रो कूटळो
कचरो-पट्टी
अड़ंग -बड़ंग
डस्टबीन में धिकावां
दोन्यूं ई
चूं ई नीं करै
आप नै सांची बतावां !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.