कागद राजस्थानी

गुरुवार, 10 अप्रैल 2014

पांच कुचरणीं

1.
मौसम होवै
चावै कित्तोई ठंडो
हरदवार में चालै
पंडां रो डंडो
गंगा में नुहावै
भगतां नै पंडो !
2.
देवता री मूरती
है भाटै री
पण उण रै
कमी नीं जाबक
आटै री !

3.
बोटां री पड़गी
आपां नै बाण
बोट तो
घालणां ई पड़सी
घोटालां नै
ऐकर फेर
टाळणां ई पड़सी !
4.
घर में
आंवतां ई भाभी
मा री खुसगी
कोठार री चाबी !
5.
बीनणी बोली
अठै किण रै
बैठां आसरै
थे रैवो
म्हारै सासरै
म्हे तो चाल्या
थांरै सासरै ! 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.