कागद राजस्थानी

गुरुवार, 10 अप्रैल 2014

खटै लुगायां

सगळी लुगायां
नीं जावै दफ़्तर
क्लब का ब्यूटी पार्लर
बां सूं कित्ती ई बेसी
खेत-खळां
कार-मजूरी में
खटै लुगायां ।

काम माथै जांवती
होटकेस में नीं ले जावै
लंच सारू जंक फ़ूड
काम सूं बावड़ती
सगळी लुगायां नी ल्यावै
पिज्जा-बर्गर-चाऊमिन
स्नैक्स-पेटीज- का पाव भाजी
सिंझ्या रै चूल्है सूं
टाळो लेवण सारू ।

घणकरीकसी लुगायां
काम सूं बावड़ती ल्यावै
पल्लै में आटो
पुड़कली में लूण-मिरच
का पछै ल्यावै खेत सूं
डांगरां सारू नीरो
घरां साग सारू
चंदळियो-तांदलो
टाबरां सारू
मामालूणी-कागारोटी
बडेरां सारू
दातण साटै री
लेय’र चिन्ता
आथण रै आटै री !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.