कागद राजस्थानी

गुरुवार, 24 अप्रैल 2014

*बणायां नीं बणै*

काचरिया कदै ई तूंबा नीं बणैं ।
तूंबा कदै ई काचरिया नीं बणैं ।।
नग हीरो कदै ई भाठो नीं बणैं ।
भाठो कदै ई नग हीरो नीं बणैं ।।
माणसिया कदै ई राखस नीं बणैं ।
राखस कदै ई माणसिया नीं बणैं ।।
चाकरिया कदै ई नेता नीं बणैं ।
नेता कदै ई चाकरिया नीं बणैं ।।
राजस्थानी कदै ई हिंदी नीं बणैं ।
हिंदी कदै ई राजस्थानी नीं बणैं ।।
[] ओम पुरोहित कागद

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.