कागद राजस्थानी

शुक्रवार, 25 अप्रैल 2014

*छोरी -सात चितराम*

1.
झांझरकै
बेगी नीं जागी
बापू जी कर दी
खाट खडी 
झाल चोटी
कर दी खडी !
2.
पैली बार बणाई
रोटी नीं बणी
मा दाईं गोळ
मा झिड़की
बळ्यो बाळणजोगो
थांरो डोळ
परनै बळ रसोई सूं
कमकसू डफोळ !
3.
गळी में खेलतां
लागगी ताळ
बीरै खींच्या बाळ
काढी गाळ
घर सूं निकळी तो
बाढ देस्यूं खुरडो !
4.
जिद्द करली
बैन-भाई
सैर में जाय
अंगरेजी री भणाई
भेळा पढण री
अर
पीळती बस चढण री
भाई ई पढ्यो
म्हारै बा ई
गांव आळी सागी
सरकारी पोसाळ !
5.
डागळै माथै
उडता किन्ना
लड़ता पेच
कटता किन्ना
देख हांसी
पगां कूद-कूद
बजाई ताळी
बापू दी दाकल
मा लढकाई
बीरो हाल नीं बोलै
इण बात पर !
6.
सासरै पूगी तो
बै ई बातां
बेगा उठो
मोडा सोवो
रोटी गोळ बणाओ
डागळै मत जाओ
गळी में बात नीं
भींत ऊपरियां कर
बाता-चींता मत करो
सासरै री बात
पीरै मत करो
पीरै रा
पीत्तर-देवता छोडो
सासरै रा धोको
जुबान मत चलाओ
आपमत्ती मत करो
कैवणों मानो
खबरदार है
जे मुंडो उघाड़्‌यो
पीरै मेलां तो जाओ
बुलाओ तो आओ !

पीरै में बेटी ही


सासरै में बीनणीं
म्हैं तो
ही ई कोनीं कठै ई
ना पीरै में
ना सासरै में !
7.
पीरै में
मा बापू
बैन भाई म्हारा
लुळै बां आगै
सासरै में
मा बापू
बैन भाई बां रा
म्हैं लुळूं आं आगै
म्हैं लुळी बां आगै
म्हनै फरक नीं लखावै
मा बापू अर सासू सुसरै में
देवर जेठ अर भाई में
बैन अर नणदळ बाई में
म्हारै सारू
सगळा ऐकसा !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.